छत्तीसगढसंपादकीय

बेमेतरा। नियम विरुद्ध ग्राम पंचायत क्षेत्र में संचालित शासकीय देसी वविदेशी मदिरा दुकानों को अन्य जगह स्थानांतरितकरने की मांग जनपद सदस्य घनश्याम सिंह राजपूत के द्वारा जिलाधीश से की गई।

*नियम विरुद्ध ग्राम पंचायत क्षेत्र मे संचालित शासकीय देशी व विदेशी मदिरा दुकान को अन्य जगह स्थानांतरित करने की मांग जनपद सदस्य घनश्याम सिंह राजपूत के द्वारा,,,*

 

 

बेमेतरा – नगर पंचायत थान खम्हरिया क्षेत्र अंर्तगत् में शासन द्वारा शासकीय देशी व विदेशी मदिरा दुकान का संचालन किया जाता है जिसे विधिविरूद्ध अधिकारीयो एवं जिला स्तरीय गठित समिति के द्वारा अपने अधिकारो का दुरूपयोग कर नगर पंचायत क्षेत्रअंर्तगत् संचालित होने वाली शासकीय मदिरा दुकानों को नगर से 04 किमी दूर उमरावनगर ग्राम पंचायत में स्थानांतरित कर दिया गया है। जिसमें फर्जी दस्तावेजो का उपयोग किया गया है घनश्याम सिंह न निम्नलिखित कारण बताए,,,

 

01. यह कि ग्राम पंचायत उमरावनगर की वर्तमान जनसंख्या 1350 के करीब हैं जहाँ छ.ग. आबकारी अधिनियम 1915 व सामान्य प्रयोग नियम 01 एवं मदिरा दुकानो के संचालन संबंधी सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशो की अवहेलना की गई हैं।

 

02. यह कि नगर पंचायत थान खम्हरिया की पार्षद तितली गौरव बिंदल व अन्य पार्षदो के द्वारा दिनांक 02.03.2020 को कलेक्टर बेमेतरा को थान खम्हरिया स्थित संचालित शराब दुकान पर आपत्ति दर्ज कर उसे अन्यंत्र स्थानांतरित करने की मांग की गई ।

 

03. यह कि नगर पंचायत थान खम्हरिया की पार्षद तितली गौरव बिंदल के परिवार के सदस्य मनीष बिंदल द्वारा कार्यालय में बिना आवेदन जमा किये उसके ग्राम पंचायत उमरावनगर स्थित भूमि जिसका खसरा नं. 887 रकबा 0,6000 हेक्टेयर भूमि में मदिरा दुकान संचालन संबंधी कार्यवाही जिला अधिकारी एवं जिला स्तरीय गठित समिति द्वारा किया जाने लगा जिसमें ग्राम पंचायत से अनापत्ति प्रमाण पत्र भी लिया गया ।

 

04. यह कि शिकायतकर्ताओ की शिकायत दिनांक 02.03.2020 के बाद तत्काल जिला आबकारी अधिकारी द्वारा अपने पत्र क्र. आब. /2020/394 बेमेतरा दिनांक 07.03. 2020 को आबकारी उपनिरीक्षक को मनीष बिंदल के ग्राम उमरावनगर स्थित भूमि का निरीक्षण प्रतिवेदन प्रस्तुत करने को कहा गया।

 

5, शिकायतकर्ताओ की शिकायत दिनांक 02.03.2020 के पूर्व ही शराब दुकान नगर पंचायत क्षेत्र से ग्राम उमरावनगर में स्थानांतरित करने की सुनियोजित कार्य की पुष्टि सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त जानकारी में प्राप्त स्थल नक्शा जिसमे ऑनलाईन तिथी 29.02.2020 से ही हो जाती है कि सारा काम अधिकारियो व पार्षदो की मिली भगत से खेला गया है।

 

06. यह कि आबकारी उपनिरीक्षक द्वारा प्रस्तुत प्रस्तावित स्थल निरीक्षण प्रतिवेदन की कंडिका 05 में ग्राम सभा प्रस्ताव तथा अनापत्ति प्रमाण पत्र. का उल्लेख है। उक्त ग्राम सभा प्रस्ताव दिनांक 02.10.2019 का है अर्थात् शिकायत कर्ताओं की शिकायत के पूर्व ही सुनियोजित रूप ग्राम सभा प्रस्ताव लिखाया गया जिसमें सरपंच के रूप में ज्वाला सिन्हा/साहू व सचिव अंचू निर्मलकर के हस्ताक्षर है जबकि दिनांक 02.10.2019 को ज्वाला सिन्हा साहू सरपंच ही निर्वाचित नही हुई थी एवं अंचू, निर्मलकर सचिव के रूप में ग्राम पंचायत में पदस्थ ही नहीं था।

 

07. यह कि ग्राम सभा की बैठक में 1/10 के अनुपात में ग्रामीणो की उपस्थिति आवश्यक है, परंतु प्रस्ताव पंजी में मात्र 35 लोगो की ही उपस्थिति थी कम उपस्थित के कारण कोरम पूर्ण ना होने से ग्राम सभा का उक्त प्रस्ताव स्वयंमेव निरस्त है।

 

08. यह कि ग्राम सभा द्वारा पारित किसी भी प्रस्ताव का क्रियांन्वयन अगर छह माह के भीतर प्रारंभ ना हो तो वह स्वयंमेव निरस्त हो जाता है। प्रकरण में प्रस्तुत ग्राम सभा प्रस्ताव दिनांक 02.10.2019 को पारित हुआ जिसकी वैद्यता दिनांक 02.04.2020 तक ही होने के बाद भी ग्राम पंचायत उमरावनगर के सरपंच द्वारा दिनांक 29.05.2020 को जारी अनापत्ति प्रमाण पत्र के आधार पर बेमेतरा कलेक्टर द्वारा अपने पत्र क्रं. / आब. / सी.एस.एम.सी.एल./भ.कि./2020/622 बेमेतरा दिनांक 11.06.2020 को ग्राम उमरावनगर में शासकीय देशी व विदेशी मदिरा दुकान संचालन की अनुमति दे दी ।

उपरोक्त तथ्यो के आधार पर स्पष्ट हैं कि नगर पंचायत थान खम्हरिया की शासकीय मदिरा दुकान को जन प्रतिनिधियो एवं अधिकारीयो की मिलीभगत से विधिविरूद्ध ग्राम पंचायत उमरावनगर में संचालन की अनुमति दी गई ।

 

नियम विरुद्ध ग्राम पंचायत क्षेत्र में संचालित शासकीय देशी व विदेशी मदिरा दुकान का किरायेदारी का अनुबंध पत्र निरस्त कर अन्य जगह स्थानांतरित करने की मांग करते हुए दोषी अधिकारीयो को निलंबित करें ।

anantcgtimes

लोकेश्वर सिंह ठाकुर (प्रधान संपादक) मोबाइल- 9893291742 ईमेल- anantcgtimes@gmail.com वार्ड नंबर-5, राजपूत मोहल्ला, ननकटठी, जिला-दुर्ग

Related Articles

Back to top button